Rishtey

Rishtey by Sanjay Sinha

Lowest online price:   INR 130.00   INR 130.00

Language Hindi
Contributor(s) Sanjay Sinha
Binding Paperback
Buy Now

Usually dispatched within 24 hours




Product Details
Language Hindi
Publication Date 2015
Publisher Prabhat Prakashan
Contributor(s) Sanjay Sinha
Binding Paperback
Edition 1
Page Count 343
ISBN 9351861821


Editorial Reviews
मुझे इसमें कोई संदेह नहीं कि मेरी माँ ने ही फेसबुक की कल्पना पहली बार की थी। मार्क जुकरबर्ग तो बहुत बाद में आए फेसबुक के इस संसार को लेकर। मेरी माँ उनसे बहुत पहले से अपने लिए फेसबुक का संसार रच चुकी थी। वो इस दुनिया में बहुत कम समय तक रह पाई, लेकिन जितने भी दिन रही, रिश्ते जोड़ती रही। मैंने उसे कभी किसी से रिश्ते तोड़ते नहीं देखा। कहती थी कि रिश्ते बनाने में चाहे सौ बार सोच लो, लेकिन तोड़ने में तो हजार बार सोचना। माँ कहती थी कि एक दिन वो नहीं रहेगी लेकिन 'रिश्ते' रहेंगे। सब एक-दूसरे से जुदा होते चले जाएँगे, लेकिन रिश्तों का कारवाँ सबको एक-दूसरे से जोड़े रहेगा। आदमी आता है चले जाने के लिए, लेकिन रिश्ते जिंदा रहते हैं यादों में, व्यवहार में, मस्तिष्क में।


Customer Reviews